EducationOmicron Coronavirus Variant कितना घातक है ओमीक्रॉन, कोरोनावायरस की तीसरी लहर

Omicron Coronavirus Variant कितना घातक है ओमीक्रॉन, कोरोनावायरस की तीसरी लहर

Omicron Coronavirus Variant: ओमीक्रॉन वैरिएन्ट क्या है? Covid-19 पूरी दुनिया में फैलने के बाद इसके कई सारे वेरिएन्ट सामने आए थे, पूरी दुनिया धीरे-धीरे Covid-19 महामारी से उबर ही रही है कि अब कोरोनावायरस का ओमीक्रॉन वेरिएन्ट काफी तेजी से दुनिया में फैल रहा है. ओमीक्रॉन सबसे पहले साउथ अफ्रीका में मिल था. डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस का ओमीक्रॉन वेरिएन्ट इससे पहले के डेल्टा वेरिएन्ट से 7 गुना ज्यादा घातक है और कई गुना तेजी से फैलता है. हम आपको इस आर्टिकल में कोरोनावायरस के ओमीक्रॉन वेरिएन्ट के लक्षणों, बचाव के तरीके आदि के बारे में विस्तृत जानकारी जानकारी देंगे।

Omicron Coronavirus Variant Kya Hai

Omicron Variant Kya Hai? जब से कोरोना वायरस दुनिया में फैलना शुरू हुआ था, उसने कई सारे म्यूटैशन से अपना रूप बदला. यह माना जा रहा था कि फिलहाल कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएन्ट ही घातक है, लेकिन एक अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएन्ट जितना 100 दिनों में फैलता है उतना ये ओमीक्रॉन वेरिएन्ट सिर्फ 15 दिनों में फैल जाता है. कोरोना वायरस के इस वेरिएन्ट का म्यूटैशन असामान्य तरीके से और तेजी से बढ़ रहा है. इस वेरिएन्ट का पहला केस साउथ अफ्रीका में मिल था और अब यह वेरिएन्ट पूरी दुनिया में 16 देशों में पहुँच चुका है.

बताया जा रहा है कि Coronavirus Omicron Variant पुराने वेरिएन्ट से भी कई गुना तेजी से फैल रहा है. किसी भी वायरस में बदलाव होना सामान्य बात होती है लेकिन जब वायरस म्यूटैट करता है तो कई बार वह एक स्ट्रैन का रूप ले लेता है जो अपने पहले के वेरिएन्ट से बिल्कुल अलग होता है. इसलिए इनका समय रहते पता लगा पाना मुश्किल होता है. कुछ वेरिएन्ट इतने घातक नहीं होते है क्योंकि वो बहुत धीरे धीरे फैलते है तब तक उनको कंट्रोल कर लिया जाता है लेकिन डेल्टा और ओमीक्रॉन जैसे वेरिएन्ट काफी तेजी से फैलते है. कोरोनावायरस का ओमीक्रॉन वेरिएन्ट तो डेल्टा वेरिएन्ट से कई गुना तेजी से फैलता है.

Omicron Variant in India Update

Omicron Variant की भारत में स्थिति, भारत में कोरोना वायरस के ओमीक्रॉन वैरिएन्ट के दो केस मिले है. कर्नाटक में दो लोग ओमीक्रॉन वैरिएन्ट से संक्रमित पाए गए है. कर्नाटक के 66 वर्षीय व्यक्ति जो हाल ही में साउथ अफ्रीका से लौटे थे, 46 वर्षीय स्थानीय डॉक्टर को ओमीक्रॉन वैरिएन्ट से संक्रमित बताया जा रहा है. यह भी सामने आ रहा है कि ये दोनों व्यक्ति Covid-19 के दोनों टीके लगवा चुके थे.

कर्नाटक के 46 वर्षीय स्थानीय डॉक्टर ने कभी विदेशी यात्रा नहीं की फिर भी वह कोरोनावायरस के ओमीक्रॉन वैरिएन्ट से संक्रमित हो गया. अब वैज्ञानिक रेसर्च कर रहे कि कहीं ओमीक्रॉन वैरिएन्ट पहले से भारत में तो नहीं था. ब्रिटेन और नीदरलेंड में भी कई कैसे ऐसे मामले मिले है जिनमें ओमीक्रॉन संक्रमित व्यक्तियों की कोई विदेशी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं थी फिर भी वे ओमीक्रॉन वैरिएन्ट से संक्रमित पाए गए.

अब तक विदेशी यात्रा करके आए कई भारतीयों में से 10 लोग कोरोना पॉज़िटिव पाए गए है जिनके सैम्पल लेकर जीनोम सीक्वेन्सिंग के लिए भेज दिए गए है, जिससे कोरोनावायरस के वैरिएन्ट का पता लगाया जा सके.

Omicron Coronavirus Variant Symptoms

ओमीक्रॉन कोरोनावायरस के लक्षण क्या है? अब तक आई रिसर्च के मुताबिक ओमीक्रॉन वैरिएन्ट के संक्रमण के शुरुआती लक्षण हल्का बुखार और थकान महसूस होना है. दक्षिण अफ्रीका में ओमीक्रॉन वैरिएन्ट से संक्रमित 100 लोगों पर हुई रिसर्च के मुताबिक जो लोग ओमीक्रॉन वैरिएन्ट से संक्रमित हुए उन्हें हल्के बुखार और थकान की शिकायत हुई है.

ओमीक्रॉन से पहले का कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएन्ट से संक्रमित व्यक्ति को सूंघने और स्वाद की क्षमता चली जाती थी. लेकिन अभी तक हुई जांच में ओमीक्रॉन वैरिएन्ट के संक्रमितों में ऐसे लक्षण नहीं दिखाई दिए है. दुनियाभर में ऐसे केस भी सामने आ रहे है जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले रखी थी उन्हें भी ओमीक्रॉन वैरिएन्ट का संक्रमण हो गया था.

कोरोनावायरस के ओमीक्रॉन वायरस को लेकर भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय की Official Website पर जाकर ओमीक्रॉन वैरिएन्ट के लक्षण और बचाव के उपाय जरूर देखें। कोरोना वायरस को लेकर कोई भी ढिलाई न बरतें. बुखार, थकान आदि के लक्षण दिखने पर डॉक्टर को जरूर दिखाएं.

Omicron Variant New Guidelines For Travel

ओमीक्रॉन वैरिएन्ट का दुनिया के 16 देशों में पहुचने की पुष्टि की जा चुकी है जिनमें अफ्रीका और यूरोप के कुछ देश, इस्राइल, हॉन्गकॉन्ग, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया देश शामिल है. भारत में अभी ओमीक्रॉन वैरिएन्ट के दो मरीज मिल चुके है. भारत सरकार ने यूरोप के सभी देश, कनाडा, ब्रिटेन, मॉरिसस, न्यूज़ीलैंड, चीन, हॉन्गकॉन्ग, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर और बांग्लादेश से आने वाले यात्रियों के लिए नई गाइड्लाइन जारी कर दी गई है.

विदेशों से आने वाले सभी यात्रियों की टेस्टिंग की जा रही है और उन्हें 14 (7+7) दिन का होम क्वॉरन्टीन करना अनिवार्य होगा अगर उनका टेस्ट नेगेटिवे आए तो भी. एयरपोर्ट आदि पर विदेशों से आने वाले यात्रियों को RT-PCR टेस्ट करवाना होगा, जिसकी जांच आने तक उन्हें एयरपोर्ट पर ही रुकना होगा. रिपोर्ट नेगेटिवे आने पर यात्री को होम क्वॉरन्टीन करना होगा और 8 वें दिन फिर से टेस्ट करवाना होगा जिसमें नेगेटिवे रिपोर्ट आने पर यात्री को 7 दिन का और होम क्वॉरन्टीन करना होगा.

Variant Of Concern (By WHO)

कोरोनावायरस के ऐसे वैरिएन्ट जिन्हें WHO ने खतरनाक श्रेणी में रखा है-

वैरिएन्टचपेट में आए देश शुरुआत
अल्फा यूनाइटेड किंगडम18 दिसम्बर 2020
बीटा साउथ अफ्रीका 18 दिसम्बर 2020
गामा ब्राजील 11 जनवरी 2021
डेल्टा भारत 11 मई 2021
ओमीक्रॉन कई देश 26 नवंबर 2021

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप जॉइन करने के लिए यहाँ क्लिक करें: Click Here

आपने यह खबर पढ़ी है हिन्दी न्यूज वेबसाईट news2know.in पर। यह स्टोरी जरूर शेयर करें।

- Advertisement -

Latest News

- Advertisement -

Latest Articles